नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है जानिए टोपोलॉजी से जुडी सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी में!


What is Topology in hindi, type of Topology
नमस्कार स्वागत है आप सभी का आज के इस पोस्ट में जिसमें हम आप सभी को बताने वाले हैं कि नेटवर्क टोपोलॉजी क्या होती है और टोपोलॉजी कितने प्रकार कि होती है | अगर आप भी इन सभी प्रश्नों के उत्तर ढूंढ रहे है तो आप आज के इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पूरा पढ़िए !

टोपोलॉजी क्या है? (What is network topology in hindi)

एक नेटवर्क में कनेक्टेड डिवाइस और कंपोनेंट्स कि संरचना को टोपोलॉजी कहते है | basically टोपोलॉजी किसी भी नेटवर्क में एक दूसरे से आपस में जुड़े हुए, Nodes(computers), hub, switch और अन्य नेटवर्किंग डिवाइस कि संरचना को टोपोलॉजी कहते हैं |

नेटवर्क टोपोलॉजी सामान्यत दो प्रकार कि होती हैं फिजिकल टोपोलॉजी और लॉजिकल टोपोलॉजी, फिजिकल टोपोलॉजी किसी भी कम्प्यूटर नेटवर्क के ज्यामितीय संरचना का प्रतिनिधित्व करती है| 

टोपोलॉजी के प्रकार -

टोपोलॉजी के निम्नलिखित प्रकार नीचे दिए गए, चलिए इन सभी के बारे में एक एक कर जान लेते हैं |

Network Topology image credit

1). बस टोपोलॉजी (bus topology)- बस टोपोलॉजी में एक मुख्य केबल होती है | जिसके दाएं और बाएँ छोटे छोटे स्टेशन होते है जिनसे कम्प्यूटर कनेक्टेड होते हैं, जैसा कि आप ऊपर इन्सर्ट किए गए इमेज में देख सकते है | यह नेटवर्क टोपोलॉजी है जिसमें सभी कम्प्यूटर्स बस कि संरचना में जुड़े हुए होते है | बस टोपोलॉजी कहलाती है |

बस टोपोलॉजी अन्य टोपोलॉजी के प्रकारों कि तुलना में बेहद साधारण होती है और इसको बनाने में ज्यादा खर्चा भी नहीं करना पड़ता है | इसमें अगर एक computer को दूसरे कंप्यूटर तक मैसेज भेजना होता है तो वह सबसे पहले मैंन सिंगल लाइन केबल पर ब्रॉडकास्ट होता है और वह नेटवर्क सभी स्टेशन पर भेजा जाता है,

उसे मैसेज को बाकि सभी कंप्यूटर ड्राप कर देते है और जिस भी कंप्यूटर को वह भेजा जाता है वह कंप्यूटर उसे एक्सेप्ट कर लेता है | बस टोपोलॉजी को ज्यादातर ethernet और स्टैण्डर्ड नेटवर्किंग के लिए उपयोग किया जाता है |

2). रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) - रिंग टोपोलॉजी भी बस टोपोलॉजी कि भांति ही है, परन्तु इसमें सभी कंप्यूटर एक रिंग कि संरचना में व्यवस्थित होते हैं | इस तरह कि टोपोलॉजी में जब एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर तक अपना मैसेज भेजना होता है तब वह मैसेज क्लॉकवाइज एक कंप्यूटर दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसमिट होता हुआ जाता है, और इसमें data एक लूप कि तरह ट्रांसफर होता है |

3). स्टार टोपोलॉजी (star topology)- स्टार टोपोलॉजी में सभी कंप्यूटर स्टार कि संरचना में होते है और सेंटर में सभी कंप्यूटर को एक दूसरे से जोड़ने के लिए नेटवर्किंग डिवाइस का उपयोग किया जाता है स्टार टोपोलॉजी में ज्यादातर switch और hub इन दोनों ही नेटवर्किंग डिवाइसेस का उपयोग किया जाता है |

चूँकि स्टार टोपोलॉजी में switch और hub जैसे नेटवर्किंग डिवाइसेस का उपयोग किया जाता है इसीलिए यह टोपोलॉजी बस और रिंग टोपोलॉजी कि तुलना में ज्यादा कॉस्टली होती है|

4). ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)- ट्री टोपोलॉजी को अगर आप ध्यान से देखेंगें, तो आप पाएँगे कि ट्री टोपोलॉजी में आपको बस और स्टार टोपोलॉजी का कॉम्बिनेशन दिखाई देगा, और यह सही भी है क्योंकि ट्री टोपोलॉजी इन दोनों का ही मिश्रण है |

ट्री टोपोलॉजी में अगर कोई एक नेटवर्क स्टेशन काम करना बंद कर देता है या तब भी इसके अन्य स्टेशन लगातार काम करते रहते है इनमें किसी प्रकार का एरर नहीं आता है | परन्तु इस तरह कि टोपोलॉजी बेहद हाई कॉस्टली होती हैं |

5). मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)- मेश टोपोलॉजी में सभी कंप्यूटर आपस में एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं और मेश टोपोलॉजी में किसी प्रकार का सेंट्रल पॉइंट या कोई नेटवर्किंग डिवाइस जैसे कि hub और switch इत्यादि का उपयोग नहीं होता है |

मेश टोपोलॉजी का उपयोग बड़े नेटवर्क में किया जाता है| जैसे कि इंटरनेट जो कि दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है मेश टोपोलॉजी का उपयोग WAN (wide area network) में होता है | मेश टोपोलॉजी का उपयोग वायरलेस नेटवर्किंग एनवायरनमेंट तैयार करने के लिए किया जाता है |

6). हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid topology)- बहुत सारी अलग अलग प्रकार कि टोपोलॉजी के कॉम्बिनेशन को हाइब्रिड टोपोलॉजी कहा जाता है, basically हाइब्रिड टोपोलॉजी बहुत सारे नेटवर्क और कंप्यूटर आपस में जुड़े हुए होते है |

Post a comment

0 Comments