नेटवर्किंग डिवाइस hub क्या है और काम कैसे करता है जानिए हिन्दी में |


Networking device hub in hindi.

आज के पोस्ट में हम आपको नेटवर्किंग डिवाइस hub से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी विस्तार से देने वाले है और साथ ही में हम आपको सभी प्रश्नों के उत्तर भी देंगें, जैसे की hub क्या है और कैसे काम करता है और इससे सम्बंधित अन्य रोचक तथ्यों के बारे में आज के पोस्ट में हम आपको बताएँगे, तो अगर आप hub से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इसे शुरुआत से लेकर अंत तक पढ़िए |

नेटवर्किंग डिवाइस hub क्या है? 

Hub एक नेटवर्किंग डिवाइस है जो की फिजिकल Data layer पर कार्य करता है फिजिकल data लेयर पर दो डिवाइस काम करते है, पहला है hub और दूसरा है रिपीटर और आज हम सिर्फ hub के बारे जानेंगे | 

हालांकि वर्तमान समय में hub की खामियों के कारण इसका उपयोग बहुत किया जाता है, परन्तु आज भी बड़े बड़े नेटवर्क में इसका उपयोग किया जाता है, चूँकि वर्तमान समय में hub के स्थान पर switch को अधिकारी महत्ता दी जाती है |

Hub का उपयोग हम लोकल एरिया नेटवर्क को बनाने में किया जाता है अब अगर आपको नहीं पता है की नेटवर्क क्या होता है तो मैं आपको बता दूँ की - जब दो या दो से अधिकारी कंप्यूटर एक नेटवर्क में कनेक्ट होते है तो इनके बीच तो कनेक्शन बनता है तब उसे हम नेटवर्क कहते है |

Hub कैसे काम करता है? 

जैसा की मैंने आपको पहले ही बता दिया है की hub एक नेटवर्किंग डिवाइस है और यह फिजिकल लेयर पर कार्य करता है और हम hub की सहायता से इलेक्ट्रिकल और binary दोनों ही प्रकार के सन्देश भेज सकते है, परंतु क्या आप जानते है की hub एक मूर्ख मशीन है |

चलिए hub के कार्य को हम एक उदाहरण के तहत समझते है की hub कार्य किस तरह से करता है |

मान लीजिए की एक hub को अापने 4 कंप्यूटर से कनेक्ट कर दिया है और यह एक लोकल एरिया नेटवर्क बन चूका है अब चूँकि चारों कंप्यूटर सिस्टम एक नेटवर्क में कनेक्टेड है तो यह आपस में एक दूसरे से कम्युनिकेशन एवं data ट्रांसफर कर सकते है |

परन्तु यहाँ पर अगर कंप्यूटर A को कंप्यूटर D को एक मैसेज भेजना है तो सबसे पहले वह मैसेज का data packet hub के पास बहुचेगा, और इस data packet में वह मैसेज और सेन्डर की जानकारी और डेस्टिनेशन एड्रेस होता है |

जब डाटा पैकेट हब के पास बहुचता है तो hub उस डाटा पैकेट को अपने नेटवर्क से जुड़े सभी pc को भेजता है यहां पर वह जिस pc को भेजा गया है वह उस data packet को accept कर लेगा और बाकि के सभी उसे ड्राप कर देंगें |

तो कुछ इस तरह से हब कार्य करता है, चलिए हब को एक साधारण से उदाहरण के माध्यम से समझते है -

जैसे मान लीजिए की सीमा (कंप्यूटर - A) नाम की लड़की ने एक छोटे लड़के (Hub) से कहा की जाओ और class में से रवि (कंप्यूटर -D) से कहना की उसने बुलाया है, तो यहां पर हब क्लास (नेटवर्क ऑफ़ कम्प्यूटर्स) में गया और उसने गेट पर खड़े होकर कहाँ की रवि तुमको सीमा नए बुलाया है |

Drawbacks of hub- 

चूँकि hub एक अपने नेटवर्क में होने वाले data packet को एक साथ सभी सिस्टम को भेजता है यह इसका एक drawback है क्योंकि अगर अन्य कंप्यूटर चाहे तो उस data packet को accept करके उसके अंदर की जानकारी को पढ़ सकते है | इसी drawback के कारण ही वर्तमान में hub का उपयोग बहुत कम किया जाता है |

Hub का दूसरा सबसे बड़ा ड्राबैक यह है की यह एक समय में सिर्फ एक ही कार्य को करता है जैसे अगर एक कंप्यूटर से data send किया जा रहा है तो उस समय वह data को रिसीव नहीं करता है | यदि कंप्यूटर A नए कोई मैसेज भेजा है जब तक वह मैसेज डिलीवर नहीं ho जाता है तब तक कोई अन्य कंप्यूटर किसी प्रकार का data ट्रांसफर नहीं कर सकता है यदि वह ऐसा करता है तो यह data आपस में टकरा कर नस्ट ho जाएगा |

Conclusion - मुझे लगता हैं कि आपको आज के पोस्ट में दि गई जानकारी पसंद आई होंगी, तो इसे शेयर जरूर करें, और कमेंट कर बताए कि आपको यह पोस्ट कैसा लगा |

Post a comment

0 Comments