बिटकॉइन माइनिंग क्या हैं और इससे पैसे कैसे कमाते हैं?


What is bitcoin mining ,how make money through bitcoin mining,
What is bitcoin mining

वेलकम टू webtunebd पिछले कुछ पोस्ट से हम बिटकॉइन और cryptocurrency के बारे में हमने जाना और सिखाया हैं और अपने सीखा हैं कि बिटकॉइन क्या हैं और बिटकॉइन कि खरीद और sell कैसे करते हैं अगर आपको यह सब पोस्ट नहीं पढ़े हैं तो इन्हें जरूर पढ़िए 

और आज के पोस्ट में हम आपको बताएँगे, कि आप crypto माइनिंग करके पैसे कैसे कमा सकते हैं और बिटकॉइन माइनिंग और crypto माइनिंग क्या है? 

Bitcoin माइनिंग क्या हैं?

Bitcoin माइनिंग एक प्रोसेस हैं जिसमें हम बिटकॉइंस कि ट्रांसक्शन को verify, store और सिक्योर करते हैं ये बिटकॉइन माइनिंग का सक्षिप्त मतलब हैं परन्तु मुझे पता हैं कि आपमें से बहुत से लोगों के मन में बिटकॉइन माइनिंग से जुड़े बहुत से सबाल हैं |

इसीलिए मैं आपको बिटकॉइन माइनिंग एक स्क्रैच से एन्ड तक विस्तार से समझाऊंगा परन्तु उससे पहले मैं आपको दो इम्पोर्टेन्ट बाते बताना चाहता हूँ जो कि निम्नलिखित हैं |

जब हम क्रेडिट कार्ड कि मदद से ट्रांसक्शन करते हैं तो उस ट्रांसक्शन को उस क्रेडिट कार्ड कंपनी के द्वारा verify किया जाता हैं और उस ट्रांसक्शन के रिकॉर्ड को रिकॉर्ड करके रखा जाता हैं परन्तु जब हम बिटकॉइन के माध्यम से ट्रांसक्शन करते हैं तो यहाँ पर किसी भी प्रकार कि third पार्टी जैसे कि क्रेडिट कार्ड कंपनी नहीं हैं जो कि ट्रांसक्शन को verify करें, क्योंकि बिटकॉइन कि ट्रांसक्शन को miners के द्वारा verified किया जाता हैं जिसके बारे में हम कुछ ही समय में जानेंगे |

Traditional money जैसे कि inr या usd जिनको banks के द्वारा प्रिंट किया जाता हैं लेकिन बिटकॉइन को किसी के द्वारा प्रिन्ट नहीं किया जाता हैं और traditional money को आप जितना चाहे उतना छाप सकते हैं इसकी कोई सीमा पूर्व निर्धारित नहीं हैं परन्तु बिटकॉइन कि मैक्सिमम लिमिट 21मिलियन बिटकॉइंस हैं सिर्फ इतने कॉइन को बनाया जा सकता हैं 

यही सब कुछ बिटकॉइन हैं जो कि बिना किसी मिडलमेंन के चलता हैं (जैसे कि banks या creditcard companies)

अब आपके मन में एक सबाल उठ रहा होगा, कि जब बिटकॉइन को किसी third पार्टी के द्वारा प्रिंट नहीं किया जाता हैं तो फिर नए बिटकॉइन कैसे बनते हैं मुझे पता हैं कि इसका उत्तर आपको पता होगा, कि न्यू बिटकॉइन को माइनिंग के जरिए बनाए जाते हैं |

बिटकॉइन माइनिंग - 

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि बिटकॉइन माइनिंग एक प्रोसेस हैं जिसमें न्यू बिटकॉइन बनाए जाते हैं और बिटकॉइन ट्रांसक्शन को verify और store किया जाता हैं यहाँ पर जो लोग बिटकॉइन कि माइनिंग करते हैं उन्हें हम miners के रूप में जानते हैं |

मैंने कहाँ हैं कि people परन्तु सच में वह कंप्यूटर होते हैं जिनको उन लोगों के द्वारा ऑपरेट किए जाते हैं और हम उन कम्प्यूटर्स को "Nodes" भी कहते हैं 

यह कंप्यूटर जिन्हें हम nodes कहते हैं ये वहुत ही पॉवर फुल होते हैं जिनमें एक सॉफ्टवेयर चलता हैं और जो कि बिटकॉइन के ब्लॉकचैन (जो कि btc का पब्लिक ledger हैं ) से कनेक्टेड होते हैं और मैथमैटिकल प्रॉब्लम को सोल्व करते हैं |

बिटकॉइन माइनिंग इतनी भी कठिन नहीं हैं जितना आप समझते हैं क्योंकि यहाँ पर हमारा काम तो सिर्फ computer को अच्छे और पॉवरफुल इक्विपमेंट के साथ कॉन्फ़िगर करना और उसमें उस सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करना होता हैं जो कि इस मैथमैटिकल प्रॉब्लम को सॉल्व करता हैं |

यहाँ पर जब भी world wide कोई ट्रांसक्शन start होती हैं तो सभी nodes (माइनिंग करने वाले computer) के पास एक रिक्वेस्ट जाती हैं और सभी nodes उस puzzel या मैथमेटिकल प्रॉब्लम को सॉल्व करने में लग जाते हैं 

अब यहाँ पर जो भी nodes सबसे पहले उस प्रॉब्लम को सॉल्व करता हैं उसके बाद अगर 51% nodes उसे उसके द्वारा सोल्व कि गई मैथमैटिकल प्रॉब्लम को सही ठहरा देते हैं उसके बाद वह ट्रांसक्शन succesfull हो जाती हैं और उस nodes को कुछ बिटकॉइन रिवॉर्ड के रूप में मिलते हैं 

Note : अगर आपके wallet में बिटकॉइन हैं और आप ट्रांसक्शन करना चाहते हैं तभी यह प्रोसेस start होती हैं क्योंकि सबसे पहले आपके wallet में बिटकॉइन कि चैकिंग कि जाती हैं कि आपके wallet में btc हैं या नहीं अगर हैं तो यह प्रोसेस start होती हैं अगर नहीं तो वही पर cancle हो जाती हैं |

अब एक सबाल और आपके मन में उठ रहा होगा, कि माइनिंग के दौरान जो रिवॉर्ड मिलता हैं वह कहाँ जाता हैं इसका उत्तर बहुत ही आसान हैं यह रिवॉर्ड उस miners के btc wallet में store होता हैं और वह इन btc को sell करके पैसे कमाता हैं

Conclusion - मुझे लगता हैं कि आपको  आज के     पोस्ट में दि गई जानकारी पसंद आई होंगी, तो इसे शेयर जरूर करें, और कमेंट कर बताए कि आपको यह पोस्ट कैसा लगा |

Post a comment

0 Comments